सुमित के तड़के - SUMIT KE TADKE

Delhi & Damini Anthem Writer's blog.

196 Posts

168 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4238 postid : 1258919

हल्के लोग (कविता)

Posted On 21 Sep, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हल्के लोग
करते हैं सदैव
हल्की ही बातें
और करते हैं
सबसे ये उम्मीद क़ि
उनकी हल्की बातों को
भारी माना जाए
इसके लिए देते हैं
वे बड़े-बड़े और
भारी-भारी तर्क
जब भी उन्हें
समझाया जाए
उनके हल्के
होने के बारे में
तो उतर आते हैं
वे अपने हल्केपन पर।


लेखक : सुमित प्रताप सिंह
www.sumitpratapsingh.com

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran