सुमित के तड़के - SUMIT KE TADKE

Delhi & Damini Anthem Writer's blog.

196 Posts

168 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4238 postid : 827680

व्यंग्य : चूहा मौत जाँच आयोग

Posted On: 4 Jan, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कॉलोनीवाले काफी दिनों से परेशान थे। कॉलोनी में डेरा जमाये हुए चूहों ने उन सबका जीना हराम कर रखा था। आख़िरकार एक दिन ईश्वर ने उनकी सुन ली और उनकी जान आफत में डाले रखनेवाले चूहों का सरदार कॉलोनी के एक घर के स्टोर में धराशाही हुआ मिला। उस एक हाथ लंबे चूहे के शव को देखने के लिए सभी कॉलोनीवासी एकत्र हुए। उन सबके लिए यह बहुत ही सुखद दृश्य था। अब कॉलोनीवासियों के लिए यह शोध का विषय बन चुका था, कि उस बलशाली चूहे की मौत आखिर इतनी आसानी से कैसे हुई?वहाँ उपस्थित जनसमूह में एकत्र व्यक्ति इस विषय पर अपने-अपने तर्क प्रस्तुत कर रहे थे। एक बात गौर करने लायक है कि लोकतान्त्रिक व्यवस्था में हम भारतीयों को चाहे कुछ विशेष रूप से प्राप्त न हुआ हो,लेकिन अपने-अपने विचार प्रस्तुत करने और अपने-अपने तर्क देने का अधिकार अवश्य मिल गया है और इसी अधिकार का सदुपयोग करते हुये सभी ने अपने-अपने अनुमानों के घोड़े दौड़ने आरम्भ कर दिए।

रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन  के एक कर्मठ सदस्य, जो अपनी नौकरी के दौरान कर्मठता नामक बुराई से दूर ही रहे, ने अपने विचार प्रस्तुत किये कि ये चूहा अभी हाल ही में पड़ोसी राज्य में एक तथाकथित संत के पुलिस द्वारा पकडे जाने के घोर दुःख में डूबकर चल बसा है। उनके इस तर्क के पक्ष में कुछ नरमुंड हिले तथा नरमुंडों ने नहीं हिलकर अपनी समर्थित न होने की इच्छा प्रदर्शित कर दी।

कॉलोनी की एक चाची गंभीर होकर बोलीं, “ऐसा कुछ भी नहीं हुआ होगा। बल्कि इस चूहे ने जिस स्टोर में अपने प्राण त्यागे, उस स्टोर को इसने अपना अभेद्य किला समझ लिया होगा तथा स्वयं को स्वघोषित संप्रदाय का प्रधान। इसके भ्रम को शेर के मौसा बिलौटे ने तोड़ डाला और अपने खतरनाक पंजों के वार से इसे यमलोक पहुँचा दिया।”

अब कॉलोनी के युवा दल की बारी थी। उनमें से एक युवा ने तर्क दिया, “इस चूहे की मौत हृदयघात से हुई है। कुछ दिन पहले इसके पुत्र को कॉलोनी के एक घर में पिंजरे में फँसाकर मार डाला गया था। अपने पुत्र के वियोग में ही इसके प्राण पखेरू उड़ गए हैं।”

बहरहाल जैसा कि प्रत्येक सभा में होता है वही इस सभा में भी हुआ। बहस आरम्भ हुई और बिना किसी परिणाम के बहस का समापन भी हो गया। अंत में एक बुजुर्ग उठे। कलियुग में वैसे तो बुजुर्गों को इतना सम्मान दिया जाता है कि उनके हाल पर छोड़ना ही हम कलियुगी जीव अपना परम कर्तव्य समझते हैं,लेकिन जब कोई उलझन या परेशानी  आती है तो इन्हीं बुजुर्गों के तजुर्बों के आगे दंडवत होने के लिए हम सभी तत्पर रहते हैं। बहरहाल बुजुर्ग ने राय दी कि इस चूहे की मौत की जांच के लिए एक जाँच आयोग का गठन किया जाए, जिसका नाम रखा जाए “चूहा मौत जाँच आयोग”। यह राय सुनते ही राजनीतिक रूप  से बेरोजगार हुए व्यक्तियों के चमचों की बाछें खिल गईं। उन चमचों के कठिन प्रयत्न आखिर रंग लाये और उस क्षेत्र के भूतपूर्व विधायक के नेतृत्व में पिछले चुनावों में अपनी जमानत जब्त करवा चुके निगम पार्षदों ने इस आयोग का जिम्मा संभाला। अब कॉलोनी वालों को प्रतीक्षा है कि “चूहा मौत जाँच आयोग” कब और क्या रिपोर्ट देता है? जबकि “चूहा मौत जाँच आयोग” के सम्मानित अध्यक्ष व सदस्य इस इंतज़ार में हैं कि कॉलोनी में किसी और बलशाली चूहे की मौत हो और इस चूहे की फ़ाइल बंद करके अगले चूहे की मौत पर व्यस्तता का बहाना मिल सके।

जल्द ही आ रही है सुमित प्रताप सिंह की तीसरी पुस्तक “नो कमेंट (व्यंग्य संग्रह)



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
January 10, 2015

सुमित जी व्यंगोदय हो या व्यंगस्ते नो कमेंट ….। अलग दबंग अहसास और ओम शांति शांति 


topic of the week



latest from jagran